राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना 2022: एप्लीकेशन फॉर्म,पात्रता व पंजीकरण प्रक्रिया?

rashtriya gokul mission yojana, rashtriya-gokul mission online date,राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022 rashtriya gokul mission bharti ll rashtriya gokul mission hindi ll rashtriya yojana ll rashtriya rifles salary ll राष्ट्रीय गोकुल मिशन ,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती आज के इस आर्टिकल में हम आपको राष्ट्रीय गोकुल योजना से जुड़ी सभी जानकारी को बताने वाले है। इस लिए इन सभी योजना से संबंधित बातो के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़े

राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022 क्या है गायों के संरक्षण एवं राष्ट्र के विकास के लिए सरकार के द्वारा विभिन्न प्रकार की योजना चलाई जाती है।इन्ही योजना में से एक योजना है राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना इस मिशन के माध्यम से गायों के संरक्षण एवं नस्ल के विकसित को वैज्ञानिक विधि से प्रोत्साहित किया जाता है इन से जुड़ी सभी जानकारी राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, एवं आवेदन करने की प्रक्रिया भी बातों को बताया गया हैआए जानते है विस्तार से

राष्ट्रीय गोकुल मिशन को केंद्रीय सरकार मंत्री राधामोहन सिंह द्वारा 28 जुलाई 2014 को शुरू किया गया था। इस योजना के अंतर्गत स्वदेशी गायों के संरक्षण और नस्ल के विकास को वैज्ञानिक विधि से प्रोत्साहित किया जाएगा। वर्ष 2014 में योजना के कार्ड एवंत के लिए 2025 करोड़ रुपए का बजट पास किया गया था। और 2019 में इस योजना के बजट को बढ़ाकर 2775 करोड़ रूपया कर दिया गया। जिससे कि पशुओं की संख्या में भी वृद्धि होगी इसके अलावा दूध उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार की प्रयास किया जाएगा।

What's in this post?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उद्देश्य

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का मुख्य उद्देश्य स्वदेशी गोवंश पशुओं की नसों में सुधार करना, उचित संरक्षण तथा दूध उत्पादन क्षमता को बढ़ाना और गुणवत्ता को बेहतरीन बनाना है इस योजना के माध्यम से लाल सिंह गिल, थारपरकर और सही बाल आदि जैसी उच्च कोटि की स्वदेशी नसों का उपयोग करके अन्य नस्ल की गाय को विकास किया जाएगा गुणवत्तापूर्ण कृतिम गर्भाधान की सुविधा उनके घर पर उपलब्ध कराई जाएगी

राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत पुरस्कार प्रावधान

  • ✔️ इस मिशन के अंतर्गत पुरस्कार का भी प्रावधान किया जाता है।
  • ✔️ पुरस्कार प्रावधान को लेकर देश के किसान पशु पालक के तरफ आकर्षित हो सके।
  • ✔️ यह पुरस्कार डेयरी विभाग एवं पशुपालन के द्वारा प्रदान किया जाता है।
  • ✔️ प्रथम पुरस्कार प्राप्त करने वाले को गोपाल रतन पुरस्कार दिया जाता है।
  • ✔️ पुरस्कार प्राप्त करने वालों को भी गोपाल रतन पुरस्कार ही दिया जाता है।
  • ✔️ तीसरे पुरस्कार प्राप्त करने वाले नागरिक को कामधेनु पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।
  • ✔️ कामधेनु पुरस्कार गौशालाओं और सर्वोत्तम प्रतिबंधित ब्रीड सोसाइटी को दिया जाता है।
  • ✔️ इस योजना के अंतर्गत अब तक लगभग 22 गोपाल रतन तथा 21 कामधेनु पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत गोकुल ग्राम

  • ✔️ इस मिशन के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में पशु केंद्र बनाए जाएंगे ।
  • ✔️ ग्रामीण क्षेत्रों में बनाया जाने वाला पशु ग्राम को गोकुल ग्राम के नाम से जाना जाएगा।
  • ✔️ गोकुल ग्राम के माध्यम से लगभग 1000 से अधिक पशुओं को रखने की व्यवस्था एवं उसकी देखरेख की जाएगी।
  • ✔️ इन सभी ग्रामों में पशुओं के पोषक संबंधित आवश्यकता को पूरा करने के लिए उनके चारा उनके भोजन सामग्री सब ✔️ उपलब्ध होंगे।
  • ✔️ सभी केंद्रों में गोकुल ग्राम में एक पशु चिकित्सालय एवं कृत्रिम गर्भधारण सेंटर की व्यवस्था भी किया जाएगा।
  • ✔️ इस योजना के माध्यम से देश के बेरोजगार को रोजगार का अवसर भी प्राप्त होगा।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन की लाभ एवं विशेषताएं

  • ✔️ राष्ट्रीय गोकुल मिशन को केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह द्वारा 28 जुलाई 2014 को शुरू किया गया था।
  • ✔️ वर्ष 2014 में इस योजना के कार्य वंश के लिए 20 से 25 रुपए की बजट का आवंटन किया गया था।
  • ✔️ इस योजना के माध्यम से देश के पशुपालक किसानों की आय में वृद्धि होगी।
  • ✔️ बजट को वर्ष 2019 में 750 करोड़ बढ़ा दिया गया था।
  • ✔️ बजट बढ़ने के बाद टोटल बजट 2775 करोड़ रूपया कर दिया गया।
  • ✔️ दूध उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रयास किए जाएंगे।
  • ✔️ इस योजना का मुख्य उद्देश्य पशुपालकों को बढ़ावा देना एवं उच्च स्तरीय जीवन देना है।

इस योजना के अनु को दूध उत्पादन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए 7 वैज्ञानिक रूप से वृद्धि करने के लिए विषय में बहुत सारी जानकारी प्राप्त होंगे।
गोकुल मिशन योजना मैं आवेदन करने के लिए पात्रता

  • ✔️ आवेदक भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • ✔️ इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक की आयु कम से कम 18 वर्ष या फिर उससे ज्यादा ही होना चाहिए।
  • ✔️ इस योजना के अंतर्गत छोटे किसान तथा पशुपालक ही आवेदन कर पाएंगे।
  • ✔️ सरकारी पेंशन प्राप्त करने वाले पशुपालक किया किसान को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा केवल इस योजना का ✔️ लाभ छोटे एवं सीमांत किसान ही उठा सकते हैं।

आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • ✔️ निवास प्रमाण पत्र
  • ✔️ आधार कार्ड
  • ✔️ आयु प्रमाण पत्र
  • ✔️ आय प्रमाण पत्र
  • ✔️ पासपोर्ट साइज फोटो
  • ✔️ मोबाइल नंबर
  • ✔️ ईमेल आईडी
  • ✔️ बैंक के अकाउंट नंबर इत्यादि

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के अंतर्गत आवेदन करने की पूर्ण प्रक्रिया

rashtriya rifles salary

  • ✔️ सबसे पहले आपको पशुपालन और डेयरी विभाग के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • ✔️ वहां से आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
  • ✔️ इसके बाद आपको आवेदन पत्र पर पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे आपका मोबाइल नंबर ईमेल आईडी इत्यादि दर्ज करना होगा।
  • ✔️ आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज उनके साथ अटैच करने होंगे।
  • ✔️ इसके बाद आपको आवेदन पत्र को पशुपालन एवं डेयरी विभाग में जाकर जमा करना होगा।
  • ✔️ प्रकार आप राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत आवेदन कर सकते हैं।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना क्या है?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उद्देश्य , इस योजना के तहत स्वदेशी नस्लो के उच्च आनुवंशिकता योग्यता वाले बैलों का प्रचार करने के लिए इस योजना को शुरू किया गया है। इस योजना के तहत स्वदेशी नस्ल के सर्वोत्तम प्रबंधन एवं रख-रखाव के लिए किसानों को गोपाल रत्न पुरस्कार दिया गया है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन कार्यक्रम कब प्रारंभ किया गया?

केन्द्रीय कृषि मन्त्री राधामोहन सिंह ने 28 जुलाई , 2014 को स्वदेशी गायों के संरक्षण और नस्लों के विकास को वैज्ञानिक विधि से प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से राष्ट्रव्यापी राष्ट्रीय गोकुल मिशन की शुरुआत की।

कैबिनेट मिशन ने संविधान सभा के निर्माण के प्रति क्या सुझाव दिए?

i) प्रति दस लाख की जनसँख्या पर एक सदस्य का निर्वाचन होगा. ii) प्रान्तों के संविधानसभा में प्रतिनिधित्व आबादी के आधार पर दिया जायेगा. iii) अल्पसंख्यक वर्गों को आबादी से अधिक स्थान देने की प्रथा समाप्त हो जाएगी. iv) रियासतों को भी जनसंख्या के आधार पर ही प्रतिनिधित्व दिया जायेगा.

कैबिनेट मिशन योजना क्या थी इसके प्रमुख बिंदुओं को लिखिए?

इस मिशन को विशिष्ट अधिकार दिये गये थे तथा इसका कार्य भारत को शांतिपूर्ण सत्ता हस्तांतरण के लिये, उपायों एवं संभावनाओं को तलाशना था। 6 दिसंबर 1946 संविधान सभा की रचना हुई। मिशन ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और ऑल इंडिया मुस्लिम लीग के प्रतिनिधियों के बातचीत की।

कैबिनेट मिशन भारत कब आया इसकी महत्वपूर्ण सिफारिशें क्या थी?

ब्रिटिश कैबिनेट मिशन 1946 में भारत आया। इस मिशन का लक्ष्य भारतीय नेतृत्व को सत्ता सौंपने की योजना पर विचार-विमर्श करना था। इस मिशन ने राष्ट्रमंडल देशों के सदस्य के रूप में भारत को स्वतंत्र राष्ट्र का दर्जा दिया. इस मिशन का गठन ब्रिटेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री क्लीमेंट एटली की पहल पर हुआ।

rashtriya gokul mission yojana , rashtriya gokul mission yojana , rashtriya gokul mission yojana , rashtriya gokul mission hindi , rashtriya gokul mission hindi , rashtriya gokul mission hindi , rashtriya gokul mission hindi , rashtriya yojana  , rashtriya yojana , rashtriya rifles salary , rashtriya rifles salary , rashtriya rifles salary , rashtriya rifles salary , rashtriya rifles salary , rashtriya rifles salary, rashtriya-gokul mission online date, rashtriya-gokul mission online date, rashtriya-gokul mission online date, rashtriya-gokul mission online date, rashtriya-gokul mission online dateराष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022,राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022,राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022,राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती,राष्ट्रीय गोकुल मिशन,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती,राष्ट्रीय गोकुल मिशन भर्ती

Friends, to update, you will answer any question in your mind, you will be disabled forever, you will ask what is your answer.

Note: – In the same way, we will first give information about the new or old government schemes launched by the Central Government and the State Government on this website.cscdigitalsevasolutions.com If you give through, then do not forget to follow our website.

If you liked this article then do like and share it.

Thanks for reading this article till the end…

Posted by Sanjit Gupta

Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information
Whatsapp Group Join Now ↗️Click Here
Facebook Page ↗️Click Here
Instagram ↗️Click Here
Telegram Channel Techguptaji ↗️Click Here
Telegram Channel Sarkari Yojana ↗️Click Here
Twitter ↗️Click Here
Website  ↗️Click Here

rashtriya gokul mission yojana

✔️ कैबिनेट मिशन योजना क्या थी इसके प्रमुख बिंदुओं को लिखिए?

इस मिशन को विशिष्ट अधिकार दिये गये थे तथा इसका कार्य भारत को शांतिपूर्ण सत्ता हस्तांतरण के लिये, उपायों एवं संभावनाओं को तलाशना था। 6 दिसंबर 1946 संविधान सभा की रचना हुई। मिशन ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और ऑल इंडिया मुस्लिम लीग के प्रतिनिधियों के बातचीत की।

✔️ कैबिनेट मिशन ने संविधान सभा के निर्माण के प्रति क्या सुझाव दिए?

i) प्रति दस लाख की जनसँख्या पर एक सदस्य का निर्वाचन होगा. ii) प्रान्तों के संविधानसभा में प्रतिनिधित्व आबादी के आधार पर दिया जायेगा. iii) अल्पसंख्यक वर्गों को आबादी से अधिक स्थान देने की प्रथा समाप्त हो जाएगी. iv) रियासतों को भी जनसंख्या के आधार पर ही प्रतिनिधित्व दिया जायेगा.

रा✔️ ष्ट्रीय गोकुल मिशन कार्यक्रम कब प्रारंभ किया गया?

केन्द्रीय कृषि मन्त्री राधामोहन सिंह ने 28 जुलाई , 2014 को स्वदेशी गायों के संरक्षण और नस्लों के विकास को वैज्ञानिक विधि से प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से राष्ट्रव्यापी राष्ट्रीय गोकुल मिशन की शुरुआत की।

✔️ कैबिनेट मिशन भारत कब आया इसकी महत्वपूर्ण सिफारिशें क्या थी?

ब्रिटिश कैबिनेट मिशन 1946 में भारत आया। इस मिशन का लक्ष्य भारतीय नेतृत्व को सत्ता सौंपने की योजना पर विचार-विमर्श करना था। इस मिशन ने राष्ट्रमंडल देशों के सदस्य के रूप में भारत को स्वतंत्र राष्ट्र का दर्जा दिया. इस मिशन का गठन ब्रिटेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री क्लीमेंट एटली की पहल पर हुआ।

✔️ राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना क्या है?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उद्देश्य
इस योजना के तहत स्वदेशी नस्लो के उच्च आनुवंशिकता योग्यता वाले बैलों का प्रचार करने के लिए इस योजना को शुरू किया गया है। इस योजना के तहत स्वदेशी नस्ल के सर्वोत्तम प्रबंधन एवं रख-रखाव के लिए किसानों को गोपाल रत्न पुरस्कार दिया गया है

Leave a Comment